बस अब दु:ख और नहीं
Call Us: +91-124-6674671


Recent added

Mayawati

मायावती जी का जीवन उतार-चड़ाव भरा रहा है यह सभी लोग जानते है l आज हम उनकी जन्मकुंडली पर प्रकाश डालेंगे और उनके भविष्य मे होने वाली घटनाओ के योग बताएँगे l मायावती जी का जन्म 15 जनवरी 1956 मे दिल्ली शहर मे मंगल की महादशा मे हुआ l

वृश्चिक राशि के मंगल ने मायावती जी को आगे बढ़ने का मार्ग  प्रदान किया l मायावती जी की जन्मकुंडली मे लग्नभाव मे बैठे गुरु ने उनको अच्छी  शिक्षा और अच्छा भाग्य तो प्रदान किया किन्तु ग्रहस्थ जीवन के सुख से वंचित रखा l मायावती जी की जन्मकुंडली मे प्रथम भाव मे बैठे गुरु ने उनको परोपकार और नरम दिल इंसान बनाया मायावती जी की जन्म कुंडली में जैसे ही गुरु की महादशा का आगमन हुआ जो की उनको 16 साल तक प्रभावित करती रही इसी गुरु की महादशा में उनको एक शिक्षक के रूप में कार्य करने का अवसर प्राप्त हुआ l

मायावती जी की जन्म कुंडली में बने बुध और शुक्र के योग के कारण उनको राजनीति की तरफ ज्यादा रुझान दिया और इसी समय के अंतराल में उन्होने कई तरह के आन्दोलनों में भी भाग लिया  l मायावती जी की जन्म कुंडली में 1994 से 2013 तक शनि की महादशा चली l इसी  शनि की महादशा ने उनको अनेकों ऊँचाईयों तक पहुचाया l 1991 में मायावती जी ने उच्च पद की प्राप्ति की और राजनीति में अपना मान-सम्मान प्राप्त किया और यह मान-सम्मान उनको मिलता रहा l मायावती जी की जन्म कुंडली में बुध की महादशा का समय चल रहा है l

मायावती जी जन्म कुंडली में बने चन्द्र और बुध के मेल के कारण बिना सोचे-समझे कही हुई बात परेशानी का कारण बन सकती है, जिसके कारण उन्हे अपमानित भी होना पड़ सकता है, साथ राजनीतिक क्षेत्र में निराशा का सामना करना पड़ सकता है l मायावती की जन्म कुंडली में बुध की महादशा में शुक्र की अंतर्दशा चल रही है क्योंकि शुक्र जन्म कुंडली में नीच का बैठा हुआ है जिसके कारण आने वाले भविष्य में दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है इसलिए सही समय पर किए गये उपाए इन सारी आने वाली परेशानियों को दूर कर सकता हैl 

 भाग्य रत्न - पुखराज 

 

Know More
Navjot Singh Sidhu

नवजोत सिंह सिद्धू जी का जन्म 1963 मे गुरु की महादशा मे पंजाब शहर मे हुआ l नवजोत सिंह जी की जन्म कुंडली मे उच्च भाव मे बैठे ब्रहस्पति देव के होने के कारण भाग्य ने काफी अच्छा सहयोग प्रदान किया l लेकिन वही सिद्धू जी की जन्म कुंडली मे ब्रहस्पति बुध के टकराव होने के कारण भाग्य पर समय-समय पर चोट मारने के योग भी बनाए l नवजोत सिंह को खेल जगत की प्रेरणा उनको उनके पिता से मिली l नवजोत जी की कुंडली मे लाभ स्थान मे सूर्य होने के कारण पिता का सपोर्ट काफी अच्छा मिला l नवजोत सिंह जी की जन्म कुंडली मे शनि की महादशा 1983 तक उनको प्रभावित करती रही l नवजोत जी की जन्म कुंडली मे धनभाव मे बैठे शनि ने उनको शिक्षा के काफी अच्छे  सुख प्रदान किए और बिना किसी रुकावट के शिक्षा प्राप्त की l 

 

नवजोत जी की जन्म कुंडली मे कामकाज के स्थान मे बैठे बुध का जैसे ही समय शुरू हुआ 1983 से 2000 तक प्रभावित करता रहा l बुध का समय पूरे सत्रह साल चलता रहा और बुध अपनी स्वयं की राशि ��े होने के कारण जैसे ही बुध का समय आया नवजोत सिंह सिद्धू जी ने अपने कामकाज की शुरुआत की l लेकिन वृश्चिक राशि मे मंगल होने के कारण शुरुआत मे काफी संघर्ष करवाया l नवजोत सिंह जी जन्म कुंडली मे सूर्य और गुरु शुभ स्थिति मे होने के कारण 1987 मे उनको प्रसिद्धि और सम्मान का सुख प्राप्त हुआ l इसी बुध ग्रह के समय मे नवजोत जी को वैवाहिक और संतान का सुख प्राप्त हुआ l नवजोत सिंह जी की जन्म कुंडली मे तुला राशि मे लाभ स्थान मे होने के कारण पत्नी का काफी अच्छा सुख प्राप्त हुआ l नवजोत सिंह सिद्धू जी की जन्म कुंडली मे बुध के ये सत्रह साल काफी सुख और समृद्धि बहुत अच्छी  ऊँचाइयों पर लेकर गया l और इसी बुध की महादशा के अंत तक उन्होने खेल जगत को अलविदा कर दिया l 

 

नवजोत सिंह सिद्धू जी की जन्म कुंडली मे 2000 मे केतू की महादशा शुरू हुई जोकि उनको 2007 तक प्रभावित करती रही l नवजोत सिंह जी की जन्म कुंडली मे लग्न भाव मे बैठे केतू ने उनको नेम फेम तो बहुत दिया इसी केतू के समय मे नवजोत जी ने राजनीति मे रुचि के योग बनाए l लेकिन उनकी जन्म कुंडली मे अशुभ केतु ने मान-सम्मान को खराबी के योग बनाये और इसी खराब समय के चलते सिद्धू जी ने राजनीति से थोड़ा अपना कदम पीछे रखे लेकिन नवजोत जी के जन्म कुंडली मे लाभस्थान मे विराजमान सूर्य और स्वराशी मे बैठे शुक्र ने राजनीत के उनके पूरे-पूरे योग बनाये l नवजोत जी की जन्म कुंडली मे कन्या राशि के बुध ने उनको प्रभावशाली वाणी प्रदान की और साथ ही उसको अपनी वाणी को अपना कार्य बनाने का विकल्प प्राप्त हुआ l जुलाई 2007 से नवजोत जी की जन्म कुंडली मे शुक्र की महादशा आरंभ हुई यह महादशा सबसे लंबी चलने वाली महादशा है l इसी शुक्र के समय मे नवजोत जी ने कला के क्षेत्र मे काफी नेम फेम कमाया और साथ ही धन-धान्य का भी सुख प्राप्त किया l अभी का समय नवजोत जी के जीवन मे काफी परेशानी वाला रहने वाला है l यदि सही समय मे सही उपाय नहीं किए गए तो आने वाला समय सरकार की तरफ से काफी परेशानी देने वाला होगा l

 

शुभ रत्न – माणिक्य

 

Know More
Sapna Choudhary

सपना चौधरी का जन्म 25 सितम्बर 1990 रोहतक हरियाणा में एक मध्यम वर्गीय परिवार मे शनि की दशा मे हुआ था l यह दशा इनके जीवन मे 1996 तक रही l 

23 अगस्त 1996 – 22 अगस्त 2013 बुध की दशा के अंतर्गत इनकी पढ़ाई लिखाई कुछ ज्यादा अच्छी नहीं रही और इसी दश के अंतर्गत 2008 मेन इनके पिता का देहांत हो गया और 18 वर्ष की आयु के बाद इन्होने अपने कैरियर की शुरूआत की और नृत्य और गायन से अपने कैरियर मे आगे कदम बढ़ाएँ और सफलता प्राप्त की l 

23 अगस्त 2013 – 22 अगस्त 2020 केतू की दशा के अंतर्गत इनके काम मे काफी अच्छी प्रसिद्धि हासिल की और कई बात ये विवादों मे फसी इनकी कुंडली मे राहू अच्छे घर मे न होने के कारण इन्होने 5 सितम्बर 2016 राहू की अंतर्दशा के दौरान अचानक से खुदखुशी करने के कोशिश की जहां काफी मान-सम्मान को खराबियों का सामना करना पड़ा और कई आरोप भी लगे l 

इसके बाद गुरु की दशा 13 अगस्त  2017 – 19 जुलाई 2018 तक रही इस दशा के अंतर्गत 9 अक्टूबर 2017 के बिग बॉस सीजन 11 की सिलिब्रिटि बनी और वहाँ से 14 जनवरी 2018 तक रही जहां इन्हें फिल्म इंडस्ट्री मे पहचान मिली l 

शनि 20 जुलाई 2018 – 28 अगस्त 2019 तक रहेंगे इस दशा के अंतर्गत सपना ने बॉलीवुड मे आइटम नृत्य किया और काफी नाम कमाया l अभी इनकी शादी नहीं हुई कई बार इनके प्रेम संबंध भी हुये लेकिन शुक्र नीच का होने के कारण काम-काज तो ठीक रहा लेकिन वैवाहिक जिआन का सुख खराब है आगे आने वाले जीवन मे इन्होने समय से उपाय करे लें तो जीवन मे आने वाली परेशानियों से निजात पा सकती है l इनके लिए “हीरा” रत्न बहुत फायदेमंद रहेगा l आने वाली दशा 23 अगस्त 2020 – 22 अगस्त 2040 तक रहेगी यह दशा इनको अभिनय मे बहुत अधिक नाम दिलाएगी और आने वाली जिंदगी मे जीवन साथी का सुख भी मिल सकता है l 

Know More
Manmohan Singh

श्री मनमोहन सिंह जी की जनम बुध की महादशा (1929 – 1946)  मे 1932 मे जेलम मे हुआ जो अभी वर्तमान मे पाकिस्तान मे हुआ ! बुध की महादशा मे इनहोने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा उत्तम दर्जे की प्राप्त की ! श्री मनमोहन सिंह जी की जनमकुंडली मे बुध अदित्या योग की वजह से इनके पिता को तकलीफ़ों का सामना करना पड़ा  क्योंकि सूर्य इनकी कुंडली मे मरकेश का फल दे रहा ह !

श्री मनमोहन सिंह जी की जनमकुंडली मे जसे ही केतू की महादश 1946-1953 आई इस समय मे इनहोने अपनी शिक्षा का लाभ प्राप्त किया ! इसी साम्य इनके उछ अधिकारियों से अच्छे संपर्क बने ! इनकी कुंडली मे राहू प्रकर्म क्षेत्र मे ह जिसने इनको विदेश यात्रा कराई और वावहिक जीवन का सुख भी प्रधान किया !

जसे ही इनकी जनमकुंडली मे शुक्र का आगमान 1953-1973 मे  हुआ 1 इस महा दशा मे इनके  प्रसिद्ध राजनेताऔ के साथ अछे संबद्ध बने जहा से इन्हे राजनीति के अवसर मिले ! शुक्र चन्द्र व मंगल की युति होने के कारण इनको जनता का पूरा सहयूग मिला ! इनकी  कियाई विदेश यात्रा हुआ जिसके प्रणाम्स्व्रूपों इनको गुरु की पदवी मिली तथा इनहोने  कई उपपाधि भी प्रपट की ! लकीन धनभाव के राहू की वजहा से भागेश गुरु ने एक नया मंच इनको प्रदान किया !

श्री मनमोहन सिंह जी की जनमकुंडली मे सूर्य की महादश 1973-1979 तक रही ! इस समय इंका जीवन सामान्य रहा ! लकीन जनता के बीच मे काफी चर्चित रहे जिसका कारण बुध आदितया योग और अष्टम का मंगल जोकि धन श्रेस्त योग बना रहा ह ! इस महादशा मे उनको काफी गौरव पप्राप्त हुआ !

मनमोहन जी ने सोचा भी नहीं था की जसे ही उनकी कुंडली मे चंद्रमा का समाया आया 1979 -1989 इस समाया मे इन्हे राजसभा का सदस्य बनया ! चन्द्र शुक्र की युक्ति और साथ मे कर्मशेतरा के सूर्य ने रूबदार व्यक्तित्व दिया !

1989 – 1996 मे जब मनमोहन सिंह जी की जनमकुंडली मे मंगल का समाया आया इनहोने सरकारी नौकरी छोड़ कर राजनीति मे कदम रखा और विपक्ष के नेता रहे ! 2004 मे इनको इनहोने प्रधान मंत्री का पद सँभाला ! 2007 मे g d p की उन्नति हुई क्यूंकी इस समय राहू का साम्य चल रहा था जो जी इनकी जनमकुंडली मे प्रक्रम क्षेत्र मे बता ह इसी समय इनको आतंकी हमलो का सामना भी करना पड़ा !

मनमोहन सिंह जी की जनमकुंडली मे 1996 – 2014 तक राहू ने इनको काफी पुरस्कार मिले साथ ही विपक्ष से काफी परेसान रहे !

आज का समाया इनको  एक आदर्शवादी शीशक के रूप मे उबरता ह ! मनमोहन सिंह जी की जनमकुंडली मे गुरु का समाया शुरू हुआ जोकि 2014 -2030 तक इनको प्रभावित करेगा ! जोकि  इनको सेहत की खराबी के योग बनाता ह !

Know More
Lalu Prasad Yadav

लालू परशाद यादव को राजनीति के क्षेत्र के कोण नहीं जनता आज हम उनकी जनमकुंडली की व्याख्या करने वाले ह ! उनका जनम शनि की महासाशा मे 1948 को बिहार मे हुआ ! उनकी जनमकुंडली मे  विश योग के कारण आर्थिक परेशनी उन्होने बचपन से ही देखि ! उनके पिता खेती करते थे और उनकी जनमकुंडली मे सूर्य ग्रहण के योग के कारण उनके पिता को काफी संगर्ष करना पड़ा ! भगस्तान मे घणु राशि मे गुरु के होने के कारण पढ़ाई मे उनको आदिक रुचि रही ! लालू परशाद यादव जी की जनमकुंडली मे दूसरे भाव मे बाथे सूर्य देव के होने के कारण उनको एक रूबदार सावभाव दिया !

1955 से 1972 तक लालू परशद यादव  जी की जनमकुंडली मे जसे ही बुध का समय जो की उनको काफी लबे समय तक प्रभावित करता रहा ! इस 17 साल की महादश ने इनके जीवन को एक नया रूप दिया ! करम स्थान मे बाथे बुध ने उनको एक तेज़ तर्रार बोली का स्वामी बनाया  छोटी उम्र मे ही उन्होने लोगो अपनी बोली से प्रभावित किया ! लालू परशद यादव  जी की जनमकुंडली मे बुध शुक्र के योग ने उनको काफी क्रिएटिव इंसान बनाया ! लकीन वही भगयसठन मे बाथे गुरु ने उनको अपनी परंपरों और संस्कार से पूरी तरह जोड़े रखा !

लालू परशद यादव  जी की जनमकुंडली मे केतू का समय आया जोकि 1972 – 1979 तक उनको प्रभावित करता रहा ! उनको एक नई उचिए की तरफ ले  गया  सोर्स ऑफ ईंकोम के स्थान मे बाथे केतू ने धन से राजनीति के क्षेत्र मे ले जाने के योग बनये ! लालू परशद यादव  जी की जनमकुंडली मे जसे ही केतू मे केतू का साम्य चला उनको ग्रहस्त जीवन का सुख के योग बने ! इसी साम्य मे इनहोने राजनीति मे जाने के भी योग बनये ! इसी केतू ने इनको रजीनीति के क्षेत्र मे अचे नेम फेम के योग बनये ! साथ ही रूपाय पासे की तरफ से भी काफी उन्नति प्रदान की ! केतू के महादश के ही समाये मे इनको पुत्र संतान के सुख के योग बने !

1979 – 1999 तक लालू परसद यादव जी की जनमकुंडली मे शुक्र का साम्य आया शुक्र 20 साल तक इनको प्रभावित करता रहा ! और  सुक्र मे आने वाली अंतर्दशा ने इनके जीवेन मे कई तरह के उतार चढ़अव के योग बनाए ! शुक्र इनकी कुंडली मे करंस्थान मे होने के कररण और साथ मे बुध के योग के कारण अपने कार्ये को पूरे एनर्जी के साथ सफलताप्र्वक करने के योग बनये ! शुक्र मे शुक्र की अंतर्दशा मे 1990 इनके प्रसधी के योग बने  जिसमे इनको अछि सुख स्मृधी प्रपट हुई ! जसे ही शुक्र मे सूर्य का अंतर समय चला लगन भाव मे ग्रहण होने के कारण उनको मान सम्मान की खरभि का सामना करना पड़ा और इसी शुक्र से समये मे उनकी जीवनसाठी ने अपने महत्वपूर्ण साथ के साथ इनको सहायता की !

लालू परसद यादव जी की जनमकुंडली मे 1999 – 2005 तक सूर्य का साम्य चला जोकि उनको सात साल तक प्रभवित करता रहा ! लालू परसद यादव जी की जनमकुंडली मे सूर्य दूसरे भाव मे काफी अछि स्थिति मे विराजमान ह लकीन लगन मे बाथे राहू मे सूर्य पर ही ग्रहण लगा दिया जिसके कारण इस साम्य मे इनके कई बार मान सम्मान खराब होने के योग बने ! और सरकार की तरफ से कई तरह की परेशानियों का योग बना ! लालू परसद यादव जी की जनमकुंडली मे सूर्य के साम्य  मे ही कोर्ट कछारी के भी योग बनये और साथ मे सेहत और तनाव का योग बनाया !

2005 -2015 तक लालू परसद यादव जी की जनमकुंडली मे चंद्रमा की महादशा का साम्य चलो जोकि 10 साल तक इनको प्रभावित करता रहा ! लालू परसद यादव जी की जनमकुंडली मे चंद्र शनि के योग के कारण धन संपाती से लेकर इनको कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ा ! सूर्य देव पर पद रही खराब शनि की दृष्टि ने इनके होसलिटल और जाईल दोनों के योग बनये !

लालू परसद यादव जी की जनमकुंडली मे जसई ही मंगल का सामय आया जोकि 2015 – 2022 तक प्रभावित करेगा  क्योंकि मंगल अशुभ होकर सूर्य के घर मे बता हा तो सरकार की तरफ से और मान सम्मान की तरफ से काफी खरभि के योग बनते ह ! यदि सही साम्य पर जनमकुंडली के उपाय नहीं किए गई तो आने वाला समये जेल के पूरे पूरे योग बनाता हा 

Know More
Manohar Lal Khattar

मनोहर लाल खट्टर जी का जन्म 05 may 1954 को रोहतक में मंगल की महा के अंतर्गत हुआ था । इनके पिता एक साधारण किसान रहे है 

09 jun 1960-08 jun 1978 – राहू की महादशा इनकी जन्म कुंडली के दौरान ये महादशा 18 वर्ष तक इनके जीवन मै रही। चल रही महा दशा के दौरान इनकी जन्म कुंडली मै तेजी से आगे बढ्ने के योग बने । इनहोने अपनी प्रारम्भिक पढ़ाई बहुत अच्छी रही । लेकिन चन्द्र इनकी जन्म कुंडली मै 11th भाव मै बेठ कर इनकी पढ़ाई के बीच मै ही खराब होने के योग बने । मनोहर लाल खट्टर स्वभाव  10th भाव मै बेठे सूर्य बुध की युति दरसाता है  ऐसा व्यक्ति खुद के बलवूते पर अपनी लाइफ जीना चाहता है और इन्ही वजह से इनहोने अपना विवाह नहीं किया । इस दशा के दौरान इनके बिज़नस करने के योग बने और कई तरह के बिज़नस भी किए लेकिन इनकी जन्म कुंडली के दौरान 10th भाव मै बुध इनकी 34 साल की उम्र के बाद ही इनके काम काज मै इनको तरक्की मिली ।

09 jun 1978 - 08 jun 1994 – तक गुरु की महादशा के दौरान इनकी जीवन मै कई सारे बदलाव आए गुरु इनके 12th  भाव मै बेठ कर इनको घर से बाहर जाने के कई बार योग बने  और इनको बिज़नस मै काफी उतार चढ़ाव का सामना करना पड़ा इस दशा के अंतर्गत इनके विवाह के कई बार योग बने लेकिन इनकी जन्म कुंडली मै शुक्र 11th भाव मै बेठे है जहा से जल्दी से जीवन साथी के सुख नहीं देता 

09 jun 1994 - 08 jun 2013 –शनि की महादशा के दौरान इनके राजनीति के योग बने अथवा इनको 1994 में हरियाणा बीजेपी में प्रदेश संगठन मंत्री की जिम्मेदारी सौंपी गई। और इन्हे लगातार सफलता हंसिल हुई और इसके बस इनहोने 1996 का विधानसभा चुनाव बीजेपी की पार्टी हरियाणा विकास चुनाव लड़ने के योग बने और इन्हे वर्ष 2002 में पार्टी ने उन्हें जम्मूकश्मीर का प्रभारी बनने के योग बने शनि इनकी जन्म कुंडली मै 4th भाव मै बेठ कर इनको सुख समर्द्धि दी । इसके उपरांत इनके लोकसभा चुनाव मै हरियाणा समिति का अध्यक्ष बनाने के योग बने 

09 jun 2013 -08 jun 2013 – बुध इनकी जन्म कुंडली मै 10th भाव मै काम काज स्थान पर बेठ कर इनको काम काज मै सफ़लताए मिली और वर्ष 2014 मै बुध की अंतर्दशा के दौरान इनको राजनीति मै हरियाणा के मुख्य मंत्री के रूप मै उभर कर आए चल रही वर्तमान दशा इनके काम के लिए बहुत अच्छी है थोड़े बहुत उतार चढ़ाव के लिए कुछ उपाय करते है तो इनके लिए उत्तम रहेगा ।

Know More

 
Free Future Prediction
 
Free Prediction Yes I Can Change


Contact Info
Follow Us
           
     

We accept all these major cards

Copyright © 2005 - 2017. G D Vashist & Associates Pvt. Ltd. All Rights Reserved.
हिंदी में पढ़े