बस अब दु:ख और नहीं
Call Us: +91-124-6674671


Virat Kohli
NAME:

Virat Kohli

DATE OF BIRTH:05 November 1988
TIME OF BIRTH:10:28 AM
PLACE OF BIRTH:Delhi, India
Virat Kohli kundali


इनका जन्म सूर्य की महादशा के अंदर हुआ है जो के इनके जीवन में 1993 तक चली और सूर्य इनकी कुंडली में 11वे भाव में बुध देव के साथ बैठे हैं। उस समय अगर इनके घर में शराब-या मास का प्रयोग होता हुआ तो वो समय इनके पिता के लिए बहुत कठिनाइयों  भरा रहता | 

 

इनकी लगन कुंडली में शनि लग्न में बैठने के कारण हम कह सकते हैं के इनका स्वभाव थोड़ा जिद्दी रहा है और पिता के साथ ताल-मेल बनने में भी दिक्कतें आई हैं | वैसे भी थोड़ी गुस्सैल प्रवर्ती के इंसान हैं जिन्हें छोटी सी बात पर गुस्सा आता है। लेकिन इनकी कुंडली में शुक्र 10वे भाव में होने के कारण इन्हें जोशीला भी बनाता है और इन्हें अपनी मंजिल हासिल करने की ताकत भी देता है। लेकिन शुक्र के साथ चन्द्र देव भी दसवें घर में बैठे हैं जिसके कारण इनकी माता की सेहत भी ज़्यादा अच्छी नहीं होगी और लग्न में शनि होने के कारण इनके जीवन में पिता के सुख भी कम हो गए। इनकी कुंडली में गुरु छटे भाव में बैठे होने के कारण घर में किसी को सांस से संबन्धित दिक्कत रहती होगी। सूर्य, बुध एक साथ होने के कारण मंगल अच्छा हो जाता है जिसके कारण इनहोने खेलों में जाने का मन बनाया और और आगे जाकर खेलों में अच्छा नाम भी कमाया। 

 

महादशा 

 

इनके जन्म के समय 6 साल (1987-1993) तक सूर्य की दशा चली है। वो समय इनके परिवार के कुछ खास अच्छा नहीं रहा होगा। उस समय इनको या इनके पिता को सेहत की खराबियों का सामना करना पड़ा होगा।  फिर जब इनकी कुंडली में मंगल की दशा आई 2003 से लेकर 2010 तक वो समय इनके कैरियर के लिए तो बिलकुल अनुकूल था। जिसमे इन्होंने अपने कैरियर की शुरुआत भी की लेकिन यह  समय कैरियर के लिए सही था वहीं वो समय इनके पिता के सुखों में कमी का योग भी लेकर आया था जिसके कारण 2006 में इनके पिता की मृत्यु हुई। 2010 से लेकर 2028 तक इनकी कुंडली में राहु कि दशा चलेगी जिनमे इनके शुरू का समय तो इनके नाम के लिए कुछ खास अच्छा नहीं था और इस समय में इनके मान-सम्मान कम होने के भी योग थे। लेकिन राहु के अंतर जब शनि का समय आया जोकि अप्रैल 2015 से 2018 तक रहेगा यह समय आपको कार्य क्षेत्र में हर तरह से सफलता और प्रसिद्धि की प्राप्ति होगी। अपनी योग्यता और बुद्धिमता का प्रयोग करते हुए अपने प्रत्येक कार्य को आसानी से पूरा करने में सफल होंगे। दूसरों की भलाई और जन कल्याण के कार्यों में रूचि बनी रहेगी। अपने से ऊंचे स्तर के लोगों के साथ संबंध जुड़ेंगे और आपकी उन्नति में इन लोगों का योगदान भी किसी न किसी रूप में प्रकट होगा। कार्य क्षेत्र में मान-प्रतिष्ठा की प्राप्ति के साथ-साथ समाज में भी सम्मान हासिल होगा। आपके अंदर अच्छी समझदारी होगी। मित्रों ओर परिचितों का अच्छा सहयोग प्राप्त होगा।

 




Contact Info
Follow Us
           
     

We accept all these major cards

Copyright © 2005 - 2017. G D Vashist & Associates Pvt. Ltd. All Rights Reserved.
हिंदी में पढ़े